मुख्यमंत्री आवास का हवाला देकर ठगी करने वाला शख्‍स कानपुर से गिरफ्तार

 मुख्यमंत्री आवास का हवाला देकर ठगी करने वाला शख्‍स कानपुर से गिरफ्तार

मुख्यमंत्री आवास के नाम से फोन कर धोखाधड़ी कर रुपये मांगने वाले आरोपित को पुलिस ने कानपुर से गिरफ्तार किया है। साइबर क्राइम के हत्थे चढ़ा युवक अपने चाचा के साथ मिलकर लोगों को फोन कर प्रधानमंत्री आवास की सबसिडी की राशि का चेक देने का झांसा देकर रकम ऐंठ लेता था। पुलिस को इस गिरोह के मुखिया की तलाश है। पुलिस ने जब शातिर ठग से पूछताछ की तो उसने कबूल किया कि फोन करने के लिए वह चार अलग-अलग सिम का उपयोग करता था।बता दें कि चार फरवरी को साइबर क्राइम पुलिस के पास साईंखेड़ा बैतूल निवासी महिला की शिकायत साइबर क्राइम पुलिस के पास पहुंची थी। महिला ने बताया था कि 21 जनवरी को उनके पास एक फोन आया। फोन करने वाले ने अपना नाम प्रवीण पांडे बताया और कहा कि वह मुख्यमंत्री आवास से बात कर रहा है। उसने फोन पर कहा कि उनका प्रधानमंत्री आवास योजना के तहत दी जाने वाले सबसिडी का साढ़े तीन लाख रुपये का चेक आया है। अगर उन्हें यह राशि प्राप्त करनी है तो आधार कार्ड, परिचय पत्र, बैंक की पासबुक की फोटो कापी, मोबाइल नंबर पर भेज दें और 2100 रुपये रजिस्ट्रेशन के जमा करा दें। यह राशि उनसे यूपीआइ के जरिये ली जाती थी। बाद में मुख्यमंत्री आवास का अधिकारी बताकर एक अन्य व्यक्ति ने भी उनसे बात की और भरोसा दिलाया कि राशि उसके खाते में आ जाएगी। काफी दिन इंतजार के बाद जब रुपये नहीं आए तो उन्हें ठगी का शक हुआ। साइबर क्राइम ने प्रकरण दर्ज कर जांच शुरू की तो मोबाइल नंबर के काल रिकार्ड के आधार पर कानपुर के पास ग्राम रटगांव थाना घाटमपुर से 20 वर्षीय प्रदीप गौतम को गिरफ्तार कर भोपाल लाया गया। उसके पास से एक मोबाइल और सिम बरामद की गई है।पूछताछ में आरोपित ने कबूल किया है कि कानपुर निवासी उसका चाचा धीरज इसका मास्टरमांइड है। वह युवकों को फोन पर बात करने की ट्रेनिंग देकर मुख्यमंत्री आवास के नाम पर बात करने का कहता था। उसके बदले में उनको एक दिन के दौ सौ से पांच सौ रुपये मिल जाया करते थे। अगर कोई झांसे में आ जाता तो धीरज मुख्यमंत्री आवास का बड़ा अधिकारी बनकर बात करता था और 2100 रुपये रजिस्ट्रेशन कराने का बोलकर यूपीआइ एप से जमा करवाता था। पुलिस यह पता करने की कोशिश कर रही है कि उसने कितने लोगों के साथ ऐसा किया है।

Related post

Leave a Reply

Your email address will not be published.