भोपाल का कोलार सिक्स लेन प्रोजेक्ट:टेंडर को पीडब्ल्यूडी अथॉरिटी की मंजूरी, बारिश बाद काम की शुरुआत; हटेगा अतिक्रमण

 भोपाल का कोलार सिक्स लेन प्रोजेक्ट:टेंडर को पीडब्ल्यूडी अथॉरिटी की मंजूरी, बारिश बाद काम की शुरुआत; हटेगा अतिक्रमण

राजधानी भोपाल के कोलार सिक्स लेन प्रोजेक्ट को पीडब्ल्यूडी अथॉरिटी ने मंजूरी दे दी है। यानी, अब कोई अड़चन नहीं है और बारिश के बाद काम की शुरुआत हो जाएगी। सबसे पहले 11 किलोमीटर के दोनों ओर के अतिक्रमण को हटाया जाएगा। फिर सिक्स लेन बनना शुरू होगा।

जुलाई में टेंडर खुले थे और अगस्त में अथॉरिटी को मंजूरी के लिए भेजा था। आखिरकार अथॉरिटी ने भी अपनी मंजूरी दे दी है। पीडब्ल्यूडी अफसरों ने बताया, बारिश के बाद सिक्स लेन का काम शुरू करेंगे। टेंडर लेने वाली कंपनी सर्वे करेगी और फिर डिटेल रिपोर्ट पीडब्ल्यूडी को सौंपी जाएगी। इसके बाद जिला प्रशासन के जरिए अतिक्रमण हटाया जाएगा।

5 करोड़ रुपए से नया ब्रिज बनेगा, भूमिपूजन हुआ
प्रोजेक्ट की लागत 233 करोड़ रुपए है। इसमें फुटपाथ और डिवाइडर बनेंगे, तो बीच में लाइट लगेगी। इसमें सर्व-धर्म ब्रिज का प्रोजेक्ट नहीं है। हालांकि, पुराने ब्रिज के पास एक और ब्रिज 5 करोड़ रुपए से बनेगा। इसके लिए भूमिपूजन 3 सितंबर को हो चुका है।

चार लाख आबादी को फायदा
पीडब्ल्यूडी अफसरों का दावा है कि काम की शुरुआत के 12 महीने में सड़क की तस्वीर बदल जाएगी। कोलार में करीब 4 लाख आबादी रहती है। निर्माण के दौरान रूट डायवर्ट भी किया जा सकता है। ऐसे में शाहपुरा होते ही कलियासोत ब्रिज बेहतर विकल्प रहेगा। इस ब्रिज का इसी साल लोकार्पण हुआ है।

चुनाव की आचार संहिता की वजह से बढ़ी डेट
सिक्स लेन प्रोजेक्ट की फाइल करीब सात महीने पहले तैयार कर ली थी। इसके चलते अप्रैल-मई में चार बार टेंडर की डेट आगे बढ़ी। जब सबकुछ ठीक हुआ तो नगरीय निकाय चुनाव की आचार संहिता लागू हो गई। इस कारण प्रोजेक्ट की फाइल आगे नहीं बढ़ सकी। आचार संहिता खत्म होते ही पीडब्ल्यूडी ने टेंडर प्रोसेस में तेजी लाई। इसके बाद 13 अप्रैल को टेंडर खोले गए। टेंडर के बाद अब इसे अथॉरिटी को भेजा गया। जहां से कुछ प्रक्रिया पूरी होने के बाद टेंडर को मंजूरी दे दी गई। अक्टूबर में सिक्स लेन के काम की शुरुआत हो सकती है।

क्यों जरूरी है फोरलेन
कोलार रोड के गोल जोड़ से बैरागढ़ चिचली के बीच की लंबाई 11Km है। इस बीच सर्व-धर्म, मंदाकिनी, बीमाकुंज, कान्हाकुंज, सीआई, चूना भट्‌टी एरिया, नयापुरा, ललितानगर, गेहूंखेड़ा, नहर की पुलिया समेत करीब 100 कॉलोनियां बसी है। यहां के लोग इसी रोड से आना-जाना करते हैं। बढ़ती आबादी के साथ अब सड़क काफी छोटी पड़ने लगी है। अक्सर जाम की स्थिति बन जाती है। वहीं, बारिश में सड़क पूरी तरह से जर्जर हो जाती है। इस बार भी ऐसी ही तस्वीर नजर आ रही है। इसलिए रोड की चौड़ाई की मांग लंबे समय से की जा रही थी।

पीक आवर्स में ट्रैफिक का खासा दबाव
वर्तमान में रोड पर ट्रैफिक का खासा दबाव रहता है। खासकर सुबह 10 से 12 बजे और शाम 5 से 8 बजे के बीच। इस कारण जाम के हालात भी बनते हैं। इसलिए करीब छह महीने पहले पीडब्ल्यूडी ने रोड को सिक्स लेन में बदलने का प्रोजेक्ट तैयार किया था।

ऐसे बदलेगी सड़क की तस्वीर

  • टूलेन की जगह सिक्स लेन में सड़क बदलेगी
  • बीचों बीच डिवाइडर रहेंगे
  • लाइटिंग होने से सड़क पर रोशनी रहेगी
  • फुटपाथ भी बनेगा, ताकि कॉलोनियों के लोगों को राहत मिल सके

बारिश के काम की शुरुआत

– कोलार सिक्स लेन से जुड़ी सारी प्रक्रिया पूरी हो गई है। बारिश के बाद काम की शुरुआत हो जाएगी।
संजय मस्के, चीफ इंजीनियर, पीडब्ल्यूडी

Iram Khan

Related post

Leave a Reply

Your email address will not be published.